Skip to main content

Vyakhyan

प. पू. गणिवर श्रुतरत्न श्री वैराग्यरती विजयजी महाराज साहेब

ध्यान – विज्ञान – धर्म

इस वीडियो में हम ध्यान, जैन धर्म, विज्ञान, और तनाव के बारे में बात करेंगे। ध्यान एक प्राचीन प्रयास है जिसमें मन को शांत और एकाग्रित रखने का प्रयास किया जाता है। जैन धर्म में ध्यान की अनेक प्रकारों का महत्वपूर्ण स्थान है, जो आत्मविकास और मानवता के प्रति समर्पण को बढ़ावा देते हैं।

जैन धर्म में पांडुलिपियों का महत्व

इस वीडियो में प. पू. गणिवर श्री वैराग्यरती विजयजी महाराज साहेब के व्याख्यान के कुछ अंश है. प्रवचन का विषय: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और चेतना का महत्व / ज्ञान संपदा का संरक्षण: जैन धर्म में पांडुलिपियों का महत्व

९ भाषा के जानकार साध्वीजी

इस वीडियो में आप श्रुत भवन पुणे महारास्ट्र के कुछ द्रश्य देखेंगे जहां अनेक जैन साधू भगवंत श्रुत संपादन के कार्य मे तल्लीन है. जैन साध्वीजी परम पूज्य श्री जिनरत्नाश्रीजी के बारे में भी बात की हुई है. साध्वीजी संस्कृत, प्राकृत, ब्राह्मी, कन्नड़ इत्यादि ९ भाषा की जानकार है. हमने उनसे की हुई बातचीत के अंश भी इस विडीयो में बताए है.